युद्ध के बादल छंटने से घरेलू शेयर बाजार में तेजी की उम्मीद: विशेषज्ञ

नई दिल्ली
भारत और पाकिस्तान के बीच युद्ध छिड़ने की आशंका कमजोर पड़ने से इस सप्ताह घरेलू शेयर बाजारों में तेजी आने का अनुमान है। विशेषज्ञों ने यह राय व्यक्त की है। विशेषज्ञों का मानना है कि इस सप्ताह वैश्विक कारकों का बाजार पर खास असर देखने को नहीं मिलेगा, बल्कि घरेलू कारक ही इस सप्ताह बाजार की चाल तय करेंगे।

पिछले सप्ताह बंबई शेयर बाजार का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 192.33 अंक यानी 0.57 प्रतिशत बढ़कर 36,063.81 अंक पर बंद हुआ। इसी तरह नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी भी आलोच्य सप्ताह के दौरान 71.35 अंक यानी 0.69 प्रतिशत की तेजी के साथ 10,863.50 अंक पर बंद हुआ। यह दोनों शेयर बाजारों में पिछले चार सप्ताह में दर्ज की गई सबसे बड़ी साप्ताहिक तेजी है।

शेयर बाजार में कारोबार को लेकर शोध एवं परामर्श देने वाली कंपनी वेल्थ डिस्कवरी के निदेशक राहुल अग्रवाल ने कहा, ‘सप्ताह के दौरान वैश्विक कारकों की अनुपस्थिति में घरेलू कारक ही बाजार की चाल तय करेंगे। भारत और पाकिस्तान के बीच भू-राजनीतिक तनाव कम होने तथा युद्ध की आशंका के फिलहाल टल जाने से इस सप्ताह घरेलू शेयर बाजारों के बढ़त में रहने का अनुमान है।’

सोमवार को महाशिवरात्रि के उपलक्ष्य में शेयर बाजार बंद रहेंगे। बाजार में मंगलवार से सामान्य कारोबार होगा। अग्रवाल ने कहा कि नए सप्ताह में मंगलवार को घरेलू बाजार तेजी के साथ खुलने की उम्मीद है। उन्होंने कहा कि यह तेजी सप्ताह भर कायम रह सकती है। हालांकि, उन्होंने कहा कि अप्रैल-मई में आसन्न आम चुनाव को लेकर निवेशक सतर्क रुख बरतेंगे।

बीते सप्ताह सोमवार को घरेलू शेयर बाजारों ने तेजी के साथ शुरुआत की। हालांकि मंगलवार को तड़के पाकिस्तान में आतंकवादी ठिकानों पर भारतीय वायुसेना के हवाई हमले की खबरों के बाद घरेलू बाजार दबाव में आ गए। इसके बाद भारतीय वायुसेना के एक विंग कमांडर को पाकिस्तान द्वारा बंदी बना लेने के बाद युद्ध की आशंका ने बाजार को अपनी चपेट में ले लिया। अंतत: बंदी बनाए गए विंग कमांडर की रिहाई की घोषणा होने के बाद निवेशकों का भरोसा लौटा और घरेलू बाजारों ने शुक्रवार को पुन: तेजी दर्ज की।

उल्लेखनीय है कि विंग कमांडर अभिनंदन वर्धमान शुक्रवार देर शाम स्वदेश लौट आए। उनकी रिहाई की घोषणा गुरुवार को कर दी गई थी। बीते सप्ताह घरेलू शेयर बाजार तीन दिन गिरावट में रहे। इस दौरान सेंसेक्स की शीर्ष 10 कंपनियों में से पांच का बाजार पूंजीकरण 35,503 करोड़ रुपये बढ़ा है। प्राथमिक आंकड़ों के अनुसार शुक्रवार को विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (एफपीआई) ने 198.38 करोड़ रुपये की शुद्ध लिवाली की। घरेलू संस्थागत निवेशक भी 117.05 करोड़ रुपये के शुद्ध लिवाल रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *