संवाददाता October 14, 2017

पटना विश्वविद्यालय के शताब्दी दिवस समारोह में शिरकत करने पहुंचे पीएम मोदी ने बड़ा एलान करते हुए कहा कि पटना यूनिवर्सिटी को केद्रीय विश्वविद्यालय से भी आगे ले जाना है, इसे चुनिंदा 20 विश्वविद्यालयों में शामिल किया जाएगा।

पीएम ने कहा कि देश के दस प्राइवेट और दस पब्लिक यूनिवर्सिटी को वर्ल्ड क्लास बनाने के लिए सरकार एक योजना लाएगी, इन यूनिवर्सिटी को सरकार के बंधन से मुक्ति देनी होगी। इन दोनों प्राइवेट और पब्लिक यूनिवर्सिटी को अगले पांच सालों में दस हज़ार करोड़ रूपये आवंटित किए जाएंगे।

इन यूनिवर्सिटी को चैलेंज के रूप में सामने आना होगा। इन यूनिवर्सिटी को अपनी सामर्थ्य को सिद्ध करना होगा। इनका विभिन्न पैमानों पर चुनाव किया जाएगा। मोदी ने इसे सेंट्रल यूनिवर्सिटी से भी आगे की सोच बताया और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि पीयू को इसमें आगे आना होगा। भाषण में मोदी ने बिहार और पटना यूनिवर्सिटी की जमकर तारीफ की ।

प्रधानमंत्री ने पटना विश्वविद्यालय की तारीफ करते हुए कहा कि आज हमारा देश जहां भी है उसमें इस विश्वविद्यालय का बड़ा योगदान है। हर राज्य में वरिष्ठ सिविल सर्विसेज के अधिकारी पटना विश्वविद्यालय के पढ़े हुए होते हैं। शिक्षा का उद्देश्य है दिमाग को खाली और खुला करना लेकिन हमारा जोर हमेशा दिमाग को भरने में रहा।

नीतीश की पटना विश्वविद्यालय को केंद्रीय विश्वविद्यालय का दर्जा दिए जाने की मांग पर प्रधानमंत्री ने कहा केंद्रीय विश्वविद्यालय बीते जमाने की बात है। इसे उससे आगे ले जाना चाहता हूं।

उन्होंने कहा कि भारत सरकार एक ऐसी योजना लाई है जिसके तहत आने वाले पांच साल में देश के 10 प्राइवेट और 10 सरकारी विश्वविद्यालयों को वर्ल्ड क्लास बनाया जाएगा। इसके लिए पूरी प्रक्रिया राजनीतिक हस्तक्षेप से दूर होगी। प्रतियोगिता में सर्वश्रेष्ठ 10 प्राइवेट और 10 सरकारी विश्वविद्यालयों को सरकार 10 हजार करोड़ रुपए की सहायता देकर वैश्विक स्तर का बनाएगी।

यह यूनिवर्सिटी इस बात का सुबूत है कि जो बीज सौ साल पहले बोया गया जिसने कई बड़ी हस्तियां पैदा कीं। इसी यूनिवर्सिटी से निकलकर कई विभूतियों ने देश-विदेश में नाम कमाया है। पहला राज्य है जहां सिविल सर्विस परीक्षा पास करने वाले छात्र हैं। इस विश्विवद्यालय का बड़ा योगदान है।

पीएम ने कहा कि पहले की पीढ़ी सांप से खेलती थी आज की नई पीढ़ी माउस से खेलती है। गणेश जी वाले माउस से नहीं कंप्यूटर के माउस की बात कर रहा हूं। पीएम ने सबसे दिमाग को खाली करने और उसे खोलने की अपील करते हुए कहा कि आज इनोवेशन को बढ़ावा देने की जरूरत है आज भारत स्टार्टअप की दुनिया में चौथे पायदान पर है। हमारे देश में सपनों को पूरा करने की ताकत है।

पीएम ने तकनीकी शिक्षा पर जोर देते हुए सभी यूनिवर्सिटीज से आह्वान किया कि तकनीकी शिक्षा पर जोर दें, तकनीक के माध्यम से बड़ी समस्याएं भी सुलझाई जा सकती हैं। शिक्षा की गति धीमी है इसे तेज करना जरूरी है।मैं पटना यूनिवर्सिटी को सबसे एक कदम आगे ले जाना चाहता हूं। हमारा हिंदुस्तान जवान है। देश के सपने जवान हैं, इसे पूरा करने के लिए सबको आगे आने की जरूरत है।

पीएम मोदी ने कहा कि पूर्व के प्रधानमंत्रियों ने हमारे लिए कुछ अच्छे काम का मौका छोड़ा और आज मुझे ये मौका मिला है कि मैं इस एतिहासिक विश्वविद्यालय के शताब्दी दिवस में मौजूद हूं।

बिहार गंगा और ज्ञान दोनों हैं। नालंदा और विक्रमशिला का जिक्र करते हुये पीएम ने कहा कि जितनी पुरानी यहां गंगा धारा बहती है उतनी ही पुरानी यहां की ज्ञान धारा बहती है। मैं बिहार के विकास के लिए सीएम नीतीश के लिए जो काम किया जा रहा है उसकी प्रशंसा करता हूं।

सुरक्षा की चाक चौबंद व्यवस्था

पीएम आगमन को लेकर पटना से लेकर मोकामा तक की सुरक्षा बढ़ा दी गई है। पटना के जिलाधिकारी संजय अग्रवाल ने बताया कि पीएम कुछ ही देर में दिल्ली से पटना के लिए रवाना होंगे। सुरक्षा व्यवस्था की चाक चौबंद व्यवस्था की गई है। सीसीटीवी के जरिए पल-पल की जानकारी ली जा रही है।

प्रधानमंत्री विशेष विमान से सुबह 10:40 बजे पटना हवाईअड्डे पहुंचे और वहां से सीधे पटना साइंस कॉलेज परिसर रवाना हुए, जहां पटना विश्वविद्यालय के 100 साल पूरे होने के उपलक्ष्य में शताब्दी समारोह का आयोजन किया गया है।

पुलिस मुख्यालय के मुताबिक, पटना से मोकामा तक 3500 से ज्यादा अतिरिक्त पुलिसकर्मियों को तैनात किया गया है। इसके अलावा केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) और विशेष कार्यबल को भी लगाया गया है।

Leave a comment.

Your email address will not be published. Required fields are marked*